हालिया आलेख

यह प्रविष्टि पढ़ें

लॉकडाउन में फंसे रूसी, इंटरनेट पर (पुनः)निर्मित कर रहे हैं प्रसिद्ध कलाकृतियां

रूस में Izoizolyatsiya फोटोचैलेंज एक जुनून बन गया है। लोग घरेलू चीजों से प्रसिद्ध कलाकृतियों को फिर बना रहे हैं, मज़ेदार व विचित्र तरीकों से।

यह प्रविष्टि पढ़ें

कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान पक्षियों की वापसी बनी वन्यजीव फोटोग्राफरों के लिए वरदान

तालाबंदी के सप्ताह ने प्रदूषण व मानवीय हस्तक्षेप में कमी के कारण पक्षियों के लिए अनुकूल वातावरण तैयार कर दिया है।

यह प्रविष्टि पढ़ें

तंजानिया में नकली दवाओं के खिलाफ जंग के नये हथियार बने हैं ऑनलाइन प्लेटफॉर्म

  5 दिसम्बर 2019

दार अस सलाम के एक दवासाज हवा डागा का मानना है कि नए ऑनलाइन सिस्टम से दवा उत्पादों को ट्रैक करने में मदद मिलेगी।

यह प्रविष्टि पढ़ें

एक नया घूर्णन ट्विटर अभियान एशिया के भाषा कार्यकर्ताओं के दृष्टिकोण पर केंद्रित होगा

राईसिंग वॉयसेज़  19 अगस्त 2019

राइजिंग वॉयस, डिजिटल एम्पावरमेंट फाउंडेशन और ओ फाउंडेशन के साथ मिलकर एक ट्विटर अभियान के माध्यम से भाषाई विविधता का जश्न मनाएं जो पूरे एशिया में डिजिटल भाषा कार्यकर्ताओं के अनुभवों को बढ़ाएगा।

यह प्रविष्टि पढ़ें

गेम ऑफ़ थ्रोंस और पर्यावरण में बदलाव: गर्मी से सावधान!

The Bridge  21 अप्रैल 2019

एक ऐसी दुनिया जहाँ राजनैतिक शक्तियां आने वाले खतरे से बेखबर आपसी रंजिश में मशगूल हैं- खतरा जो हमेशा के लिए सब बदल देगा.

यह प्रविष्टि पढ़ें

वेनेज़ुएला के डिजिटल पत्रकार लुईस कार्लोस डियाज़ गुमशुदा हो गए हैं

जीवी एडवोकेसी  14 मार्च 2019

वेनेज़ुएला में 'प्रतिपक्ष की पत्रकारिता' से ताल्लुक रखने वाले चेहरों में लुईस कार्लोस एक स्थापित चेहरा है.

यह प्रविष्टि पढ़ें

जब महात्मा गांधी ने म्यांमार में अहिंसात्मक क्रांति का प्रचार किया

  9 मार्च 2019

"मेरे पास आपको देने हेतु और कोई मार्गदर्शन नहीं है कि आप अपना ध्यान अहिंसा के सामान्य सिद्धांत पर यानी आत्म-शुद्धि पर लगायें। "

यह प्रविष्टि पढ़ें

कोयला खदानों पर दिए अपने ऐतिहासिक फैसले में ऑस्ट्रेलियाई अदालत ने पर्यावरण पर मंडराते खतरे को स्वीकारा

  6 मार्च 2019

" न्यू साउथ वेल्स की अदालत द्वारा ऑस्ट्रेलिया में कोयला खदान व पर्यावरण के संबंध में दिए गए फैसले ने दुनिया को हैरत में डाला".

यह प्रविष्टि पढ़ें

नेटिजेन रिपोर्ट: क्या भारत में क्षेत्रीय इंटरनेट पाबंदियों का सिलसिला कभी थमेगा?

जीवी एडवोकेसी  27 फरवरी 2019

भारत में इंटरनेट सेवाओं पर प्रतिबंध, वेनेज़ुएला में विपक्षी दलों की वेबसाइटों के साथ छेड़-छाड़ तथा यूगांडा में सोशल मीडिया कर की वजह से इंटरनेट उपभोक्ताओं की संख्या में गिरावट.

हमसे फेसबुक पर जुड़ें

ट्विटर पर हमें फॉलो करें

भागीदार बनें

ग्लोबल वॉयसेज़ का हिन्दी संस्करण स्वयंसेवकों के अनुवाद कार्य से बना है। यदि आप भी हमारा सहयोग करना चाहें तो ईमेल करें

हमारे यूट्यूब चैनल से


पाईये दुनिया भर से रोचक कहानियाँ सीधे अपने इनबॉक्स में

* = required field
शुक्रिया! पर फ़िलहाल नहीं।