आलेख परिचय एशिया

कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान पक्षियों की वापसी बनी वन्यजीव फोटोग्राफरों के लिए वरदान

कोविड-19  6 जून 2020

तालाबंदी के सप्ताह ने प्रदूषण व मानवीय हस्तक्षेप में कमी के कारण पक्षियों के लिए अनुकूल वातावरण तैयार कर दिया है।

जब महात्मा गांधी ने म्यांमार में अहिंसात्मक क्रांति का प्रचार किया

"मेरे पास आपको देने हेतु और कोई मार्गदर्शन नहीं है कि आप अपना ध्यान अहिंसा के सामान्य सिद्धांत पर यानी आत्म-शुद्धि पर लगायें। "

कोयला खदानों पर दिए अपने ऐतिहासिक फैसले में ऑस्ट्रेलियाई अदालत ने पर्यावरण पर मंडराते खतरे को स्वीकारा

  6 मार्च 2019

" न्यू साउथ वेल्स की अदालत द्वारा ऑस्ट्रेलिया में कोयला खदान व पर्यावरण के संबंध में दिए गए फैसले ने दुनिया को हैरत में डाला".

नेटिजेन रिपोर्ट: क्या भारत में क्षेत्रीय इंटरनेट पाबंदियों का सिलसिला कभी थमेगा?

जीवी एडवोकेसी  27 फरवरी 2019

भारत में इंटरनेट सेवाओं पर प्रतिबंध, वेनेज़ुएला में विपक्षी दलों की वेबसाइटों के साथ छेड़-छाड़ तथा यूगांडा में सोशल मीडिया कर की वजह से इंटरनेट उपभोक्ताओं की संख्या में गिरावट.

एक भारतीय प्राध्यापक बना रहे हैं प्लास्टिक कचरे से टिकाऊ सड़कें

  29 अप्रैल 2018

प्रो. वासुदेवन ने देश में प्लास्टिक कचरे की बढ़ती समस्या देखकर ऐसी विधि की खोज की जिससे रीसायकल्ड प्लास्टिक कचरे से सड़कें बनायी जा सकें।

बांग्लादेशी शादियों में सांस्कृतिक बदलाव के चलते बदल रहा है खानपान

  5 फरवरी 2018

यद्यपि बांग्लादेशी विवाहों में परोसे जाने वाले व्यंजनों में बदलाव शुरू हो गया है, एक बात फिर भी कायम है - ये स्वादिष्ट होते हैं।

धान खेत और भैंस: फिलीपींस के ग्रामीण जीवन की एक झलक

  22 जनवरी 2018

अकाम्पो ने ग्लोबल वँइसेस के साथ जो फोटो शेयर कि हेय ये सिर्फ समतल कृषि क्षेत्र का दृश्य नेही हेय, परन्तु अनजाने में फिलिपींस का कृषि कि दशा बता रहि हेय।

गैरकानूनी गिरफ्तारी व पुस्तकों की जब्ती के लिए मलेशियाई राजनीतिक कार्टूनिस्ट ज़ुनार ने पुलिस पर मुकदमा ठोका

जीवी एडवोकेसी  19 अगस्त 2017

"आप मेरी कार्टून पर प्रतिबंध लगा सकते हैं, पर मेरे दिमाग पर प्रतिबंध नहीं लगा सकते हैं। मैं स्याही की आखिरी बूंद तक चित्र बनाता रहूंगा।"

पाईये दुनिया भर से रोचक कहानियाँ सीधे अपने इनबॉक्स में

* = required field
शुक्रिया! पर फ़िलहाल नहीं।