See all those languages up there? We translate Global Voices stories to make the world's citizen media available to everyone.

विडियो: सउदी आदमी ने “बीबी से बात करने पर” कामगार की पिटाई की

एक विदेशी कामगार की पिटाई और अपमान करते दिखाने वाला विडियो ऑनलाईन सुर्खियाँ बटोर रहा है।

दक्षिण एशियाई कामगार को बीबी से बात करने के आरोप में सउदी व्यक्ति द्वारा उसे गाली देते हुए बार बार थप्पड़ मारने का विडियो है। उस पर थूकते हुए उसे उसने जानवर और कुत्ते का बच्चा कहा। उसके बाद उसने कामगार पर लात घूसे बरसाए और कोड़े मारे जिससे उसकी दर्द से कराहती आवाज सुनाई पड़ रही है।

ट्वीटर पर, नेटिजन ने आक्रोश के साथ विडियो पर प्रतिक्रिया दी।

अहमद शाबरी लिखते हैं:सऊदी में प्रवासी श्रमिकों के खिलाफ हिंसा अब बराबर होती है। प्रायोजित करने वाली प्रणाली “हिंसा के लिए दरवाजे खोलती है।”

लैला राउसेस की टिप्पणी: “श्रमिक की साउदी आदमी द्वारा पीटाई करते विडियो के अंश देखे।अरबी में श्रमिक को जानवर कह रहा है। बिल्कुल भयानक है। मैं सोचती हूँ पहले उसे अपने को देखना चाहिए।”

और अरी अक्करमैन्स् कहते हैं: सऊदी द्वारा विदेशी श्रमिक की पिटाई का विडियो बस बहुत बहुत बहुत भयानक है। अन्य देशो को अपने नागरिको को सउदी अरब में काम करने की अनुमति नहीं देना चाहिए….

इस तरह की घटनाएँ इस क्षेत्र के लिए नई नहीं हैं, जहाँ प्रवासी श्रमिकों के साथ दुर्व्यवहार के साथ बुनियादी मानव अधिकारों से भी वंचित किया जाता हैं।

इससे पहले एक बंग्लादेशी को ठोकर और थप्पड़ सउदी आदमी द्वारा मारने का विडियो वायरस की तरह फैला था।

सउदी आदमी बंग्लादेशी व्यक्ति को थप्पड़ मार कर अपमानित करते और उसे “जानवर” कहते दिखाई दे रहा है।

दूसरा विडियो, इस बार पड़ोसी संयुक्त अरब अमीरात से है जिसमे एक स्थानीय प्रवासी ड्राईवर की पिटाई कर रहा है जब वे सड़क यातायात दुर्घटना में मिले। राहगीर उसे रोकने की कोशिश कर रहे हैं:

ह्यूमन राइट्स वॉच के अनुसार मध्य पूर्व घरेलू श्रमिकों पर काफी निर्भर करता है लेकिन उनकी रक्षा करने में विफल रहता है।

एक ताजा रपट के मुताबिक:

मध्य पूर्व मे घरेलू श्रमिक जो अधिकतर एशिया और अफ्रिका से हैं के बारे मे ह्यूमन राइट्स वॉच, IDWN, और ITUC ने जो दस्तावेज तैयार किया है, उसके अनुसार दुर्व्यवहारो की एक विस्तृत श्रृंखला जिसमे बकाया मजदूरी, जहाँ वे काम करते हैं उस घर को छोड़ने पर प्रतिबंध, बिना विश्राम के कार्य के अधिक घंटे शामिल है, का अनुभव अधिकांश श्रमिकों ने किया है। कुछ मनोवैज्ञानिक, शारीरिक या यौन उत्पीड़न का सामना करते हैं, बेगार की स्थितियों में फंसते हैं और उनका अवैध व्यापार किया जा सकता है।

रपट आगे कहती है:

मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका क्षेत्र में लगभग हर देश ने श्रम कानूनों की सुरक्षा में घरेलू श्रमिकों को शामिल नहीं किया है और उनपर प्रायोजन या काफला प्रणाली के तहत उनके नियोक्ताओ को उन पर नियंत्रण के लिए अत्यधिक शक्ति देने के अलावा अपने यहाँ प्रतिबंधात्मक आव्रजन नियमों को लागू किया है।

टिप्पणियाँ अब नहीं की जा सकतीं।