आलेख परिचय तुर्की

आर्मीनियाः खुला पत्र

तुर्की लेखक व चिट्ठाकार मुस्तफा अक्योल की आर्मीनियाई जातिसंहार विषय पर आप्रवासी आर्मीनियाई को लिखे खुले पत्र का जवाब “लाईफ इन आर्मीनिया” चिट्ठे के लेखक रफी ने तुर्की नागरिकों को लिखे अपने खुले पत्र से दिया है। 1915 से 1917 के बीच हुई घटनाओं को जातिसंहर का दर्जा देते हुये...

फिलिस्तीन: तुर्की में इक गुल

  30 अगस्त 2007

फिलिस्तीनी चिट्ठे कबाबफेस्ट के फय्याद तुर्की कें नवनिर्वाचित राष्ट्रपति अब्दुल्ला गुल के बारे में लिखते हैं, “विडंबना है कि तुर्की में कुछ धर्मनिरपेक्ष चरमपंथियों को भी गुल की बेगम हैरुन्निसा का हिजाब, जिस पर तुर्की के सभी सार्वजनिक संस्थानों में पाबंदी है, पहनना नागवार गुज़र रहा है, खासतौर पर जब...

तुर्की ने वर्डप्रेस डॉट कॉम पर रोक लगाई

लोकप्रिय व मुफ्त ब्लॉगिंग प्लेटफार्म वर्डप्रेस डॉट कॉम पर तुर्की में रोक लगा दी गई है और आगंतुकों को ये संदेश दिख रहा है, “निर्णय क्रः 2007/195 के तहत इस जालस्थल की पहुंच स्थगित कर दी गई है।, टीसी फतीह 2, दीवानी अदालत”। वर्डप्रेस के संस्थापक मैथ्यू मुलेनवेग ने कहा, “मुझे...